Not a member?     Existing members login below:
Holidays Offer
 

यग क अग
YOGA PARTS
यग क वभन अग क परचय-
Introduction of the different parts of yoga:
यगभयस क मल भसदत क र ´कठपभषद´, ´गत गत´ ´यग सत´, ´पर´,
´उपभषद´ औ यग गथ म ककय गय ह। यग कय क अभयस पहल ऋवष-मभ
अप शरक औ मभसक ससय तथ आधयतमक ज क पभ क भलए कत
थ। यग कय क उपव म जभत क ससथ बए ख क भलए हई ह।
यगभयस क तय ससकभत म सबस पहल अपय गय औ क इसक पभसवद
प सस म हई।
, म औ आधयतमक ल क भलए यग क पयग म जभत क शरआत
समय स ह हत चल आ ह ह। जभक मनयतओ क अस यग ज हज
स चल आ ह ह। यग कड़ ष स वभन कत म भलख गए भसदनत,
धरओ पदभतय, कयओ औ भयम प आधरत ह। इसक मल भयम अप
सदतनतक वयहरक रप म शसय यग य अषग यग क म स ज जत ह।
यग गथ म यग क 8 अग य शखओ क र ककय गय ह, तजसक परष
पतजभल क ´यग सत´ म सह पक स द गई ह। यग क इ 8 अग क मखय 3
ग म बट गय ह। तजसम यम औ भयम क यग आच भत क आध प
ख गय ह। आस, परयम औ पयह क श म क बह यगभयस
म गय ह तथ धर, धय औ समभध क आतरक यगभयस म गय ह।
हठयग म यग क 8 अग क अभतरक कछ अनय कयए ह, तजक अभयस स
आतरक श क शवद हत ह। आतरक श क शद क क भलए षटकय क
अभयस क बतय गय ह।षटकय क अभयस आस क तह ह श क सचछ
ससथ ब क भलए ककय जत ह, तजसस धय आकद कयओ म जलद ल प
ह सक। आस औ षटकय द क एक ह कम ह, श क स औ ससथ
बक म क पसन ख। हठयग म अनय कयओ क बतय गय ह, तजस
मद बनध कहत ह। यग म मदओ बनध क र ककय गय ह।
मदओ औ बध क यग क अनय कयओ क सथ पयग ककय जत ह। आस,
Remove